कभी भी धराशायी हो सकता है जागर में बना व्यास पुल

कभी भी धराशायी हो सकता है जागर में बना व्यास पुल
तीन पंचायतों के लोगों ने डीसी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन
सदर व दं्रग विधानसभा क्षेत्रों को जोड़ता है पुल, रोजाना सैंकड़ों लोग होते हैं आर पार
दं्रग के इलाका बदार की जीवन रेखा है यह पुल

मंडी : मंडी कुल्लू मार्ग पर मंडी से 13 किलोमीटर दूर नौ मील जागर में व्यास नदी पर बना पुल इतना जर्जर हो चुका है कि यह कभी भी धराशायी हो सकता है। इससे पहले भी यह पुल 1976 में टूट गया था जिसमें एक नौजवान जिसकी शादी 15 दिन पहले ही हुई थी की मौत हो गई थी।

अब फिर से इस पुल की यही दुर्दशा हो गई है। इसे लेकर इलाके की तीन पंचायतों शिवा, मैहणी व थट्टा के लोगों व बिनौल महिला मंडल ने उपायुक्त मंडी ऋगवेद ठाकुर के माध्यम से मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर को एक ज्ञापन भेजा।

इस ज्ञापन में कहा गया कि 1976 में टूट जाने के बाद इसका निर्माण 1986 में फिर से किया गया था। पुल को बने 36 साल हो गए इसे 6 मोटी तारों के जरिए संस्पेंशन निर्माण शैली के माध्यम से बनाया गया है। इन 6 मोटी तारों में से चार पूरी तरह से जंग लगने के कारण कट कर अलग हो गई हैं तथा पूरे पुल का बजन केवल दो तारों पर आ गया है। ज्ञापन में कहा गया कि इस पुल से होकर तीन पंचायतों के लगभग 500 लोग रोजाना आर पार होते हैं जिनमें स्कूल कालेज के बच्चे, बूढ़े, बीमार, नौकरी पेशा लोग व काम करने के लिए सिलसिले में रोजाना मंडी आने लोग प्रमुख हैं।

अब इस पुल से गुजरना खतरे से खाली नहीं है और लोगों को आठ किलोमीटर का चक्कर काट कर वाया पंडोह आना पड़ रहा है। इससे लोगों की परेशानी बढ़ गई है। ज्ञापन में बताया कि पुल की दुर्दशा को लेकर विभाग को अवगत करवाया गया था तथा मीडिया में भी इसकी दुर्दशा की रिपोर्टें प्रकाशित हुई थी। इसके बावजूद भी विभाग ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया बल्कि पुल पर चेतावनी बोर्ड लगाकर व बांस की बल्लियों से पुल को बंद करके अपने फर्ज से इतिश्री कर ली।

ज्ञापन में आग्रह किया गया है कि इस पुल को जल्द से जल्द मरम्मत करने के आदेश लोक निर्माण विभाग को दिए जाएं ताकि कोई बड़ा हादसा न हो तथा लोगों की समस्या भी खत्म हो सके।मैहणी पंचायत के प्रधान प्रेम सिंह ने बताया कि उपायुक्त ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए लोक निर्माण विभाग को आदेश दिया है कि वह इस पुल की तुरंत मरम्मत करे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *